https://representationfighter.com/n58ycn2mt3?key=2c973e53eb2656c351cd1ceefe600fcf गर तस्वीर बनानी है तो कागज पर मत बनाओ दिल में तस्वीर बना लो | wordmedia.in

bullet ads

P
P

Sunday, 4 December 2011

गर तस्वीर बनानी है तो कागज पर मत बनाओ दिल में तस्वीर बना लो


गर तस्वीर बनानी है तो कागज पर मत बनाओ दिल में तस्वीर बना लो


मेरा कहानी आईडिया लिखना   फिर डिरेक्टर  और प्रोडूसर , एक्टर को बैठ कर उसे विस्तार से  बताना शौक नहीं है पेशा है . चाहे उस पर काम करे या  नहीं करे | अभी  भी जब खाली समय होता है तो ये काम करने मै डिरेक्टर  और प्रोडूसर  के पास पहुच जाता हु | 

देव साब को से  २००३ में मिला था वह भी फिल्म के आईडिया की सिलसिले में ? मेरे दिमाग में काफी दिनों से एक आईडिया कुलबुला रहा था | वह बोले तुम घर चले आओ |

 पहली बार जिन्दा दिल  इन्सान से मिल रहा था | देव बोले अभी तो मैंने सफ़र शुरू किया है | मंजिल दूर है | कभी भी न थकने वाले इन्सान दूर चला गया | मन को चोट लगी | दिल में दर्द हुआ | 

मैंने जब आईडिया सुनाना शुरू किया तो बीच में रोकते हुए बोले  , गर तस्वीर बनानी है तो कागज पर मत बनाओ दिल में तस्वीर बना लो जो कभी ख़राब नहीं होती है | वह अपनी यादे छोड़ जाती है |

बॉलीवुड में रहकर दूसरे कलाकारों प्रेरित करना देव की साब की अपनी पहचान थी |  देव ने मेरी आखो में झुकर देखा और कहा , तुम लिखते रहो , अच्छा लिखते हो | तुम कहानीकार बन सकते हो | तुम्हारी आखो  में सच्चाई नजर आती है | वह मुलाकात मेरे जीवन की यादगार मुलाकात थी | जिसे मै पूरी उम्र नहीं भुला सकता हु |

सुशील गंगवार पिछले ११ बर्षो से प्रिंट , इलेक्ट्रोनिक , वेब मीडिया के लिए काम कर रहे है | वह साक्षात्कार.कॉम , साक्षात्कार टीवी. कॉम और साक्षात्कार. ओर्ग के संपादक है | 

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

More Readable Post